रे की राय: बैंक वाले मजे में हैं और यह मजा सारी अर्थव्यवस्था टूटकर बिखर जाने तक चलता रहेगा

प्रकाश के रे वरिष्ठ पत्रकार हैं. भारत मे अंतराष्ट्रीय मसलों के चुनिंदा जानकर लोगों में से एक हैं. विश्व राजनीति के साथ-साथ मीडिया, साहित्य और सिनेमा पर भी आप गहरी समझ रखते हैं. _________________________________________________________________________ कार्ल मार्क्स का कहना था कि पैसा इतिहास की धारा तय करने में सबसे बड़ी भूमिका निभाता है और इस पैसे […]

अगर आपके बॉस की सैलरी आपसे 40 गुना ज्यादा है तो इसे जरूर पढ़ें

हम जिन ढांचों में बंधकर इस दुनिया को चलाने का काम करते हैं, उन ढांचों की वजह से यह केवल कोरी कल्पना हो सकती है की दुनिया से विषमताओं का अंत हो जाए। लेकिन अगर इसे हल्के में लिया तो विषमताओं की खाई का जन्म होता है। इस बात को जब हम हर लहजे में […]

#metoo कैंपेन हज़ारों किमी दूर बैठी एक लड़की को ताकत देता है पर इसका मकसद अधूरा क्यों है?

नवम्बर का महीना! फेसबुक की वर्चुअल वॉल को मैं अपने फ़ोन पर देख ही रहा था कि मेरी नज़र एक स्टेटस पर आकर जम गई। पोस्ट मेरे साथ आईआईएमसी में पढ़ी एक लड़की ने लिखी थी। पोस्ट अपने आप में एक आपबीती थी कि किस तरह उसके बगल में रहने वाले ‘दादू’ ने मात्र सात […]

बेनेडिक्ट एंडरसन: जिनके विचारों ने दुनिया को देखने का नज़रिया ही बदल दिया

आखिरी बहुज्ञानी: बेनेडिक्ट एंडरसन एक विद्वान और इंसान के तौर पर (रामचंद्र गुहा ने यह लेख करीब दो साल पहले बेनेडिक्ट एंडरसन के देहांत के बाद प्रतिष्ठित अंग्रेजी रिसर्च पत्रिका इकनॉमिक एंड पॉलिटिकल वीकली के लिये लिखा था. यहां हम आपके लिए उस लेख का संक्षिप्तानुवाद पेश कर रहे हैं.) बेनेडिक्ट एंडरसन जिनकी दिसंबर, 2015 […]

आज रिलीज हुई थी गॉडफादर II, जिसमें पहली बार अल पचीनो और रॉबर्ट डी नीरो साथ दिखे थे

कठफोड़वा.कॉम की नई साथी मनुकृति जबलपुर में रहती हैं. ‘जाना था जापान, पहुंच गये चीन’ की तर्ज पर इंजीनियरिंग पढ़ने में ज्यादातर वक्त गुज़ारती हैं जबकि शौक है पॉलिटिकल, क्रिमिलन नॉन फिक्शन नॉवेल्स पढ़ने का. इनका दावा है कि इनके अंदर कुछ रैप्टाइल्स जैसे गुण भी हैं, जैसे घंटों सोना. सोशल मीडिया पर खूब एक्टिव […]